Sunday, October 2, 2022

तीन दिवसीय जैतालूर मड़ई के बिना मां कोदई माता का वार्षिक आयोजन संपन्न

Must Read

तीन दिवसीय जैतालूर मड़ई के बिना मां कोदई माता का वार्षिक आयोजन संपन्न

(संवाददाता सिरोज विश्वकर्मा)

बीजापुर: जिला मुख्यालय से लगे ईटपाल पंचायत के ग्राम जैतालूर में प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले मां कोदई माता की पूजा-अर्चना के साथ तीन दिनों तक चलने वाला मेला-मड़ई कोरोना के कारण इस वर्ष नहीं हो पाया। हालांकि माता के दरबार में मत्था टेकने भक्त जरूर पहुंचे थे। गुरुवार को इस आयोजन का अंतिम दिन है। कोविड संक्रमण के खतरे के चलते इस वर्ष आयोजन को भव्य रूप नहीं दिया जा सका।

उल्लेखनीय है कि बीजापुर जिला मुख्यालय से लगे जैतालूर गांव में कोदई माता का एक प्राचीन मंदिर स्थित है। जहां प्रतिवर्ष तीन दिनों का मेला लगता है। जैतालूर मड़ई के साथ ही बस्तर में मेलो-मड़ई का आगाज हो जाता है। मेला कुल तीन दिनों का होता है। पहले और दूसरे दिन कोदई माता के छत्र को ग्राम भ्रमण कराया जाता है। देवी के पुजारी भोयर परिवार के वंशजों के द्वारा परंपरानुसार पूजा अनुष्ठान संपन्न किया गया।

More Articles Like This

तीन दिवसीय जैतालूर मड़ई के बिना मां कोदई माता का वार्षिक आयोजन संपन्न

(संवाददाता सिरोज विश्वकर्मा)

बीजापुर: जिला मुख्यालय से लगे ईटपाल पंचायत के ग्राम जैतालूर में प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले मां कोदई माता की पूजा-अर्चना के साथ तीन दिनों तक चलने वाला मेला-मड़ई कोरोना के कारण इस वर्ष नहीं हो पाया। हालांकि माता के दरबार में मत्था टेकने भक्त जरूर पहुंचे थे। गुरुवार को इस आयोजन का अंतिम दिन है। कोविड संक्रमण के खतरे के चलते इस वर्ष आयोजन को भव्य रूप नहीं दिया जा सका।

उल्लेखनीय है कि बीजापुर जिला मुख्यालय से लगे जैतालूर गांव में कोदई माता का एक प्राचीन मंदिर स्थित है। जहां प्रतिवर्ष तीन दिनों का मेला लगता है। जैतालूर मड़ई के साथ ही बस्तर में मेलो-मड़ई का आगाज हो जाता है। मेला कुल तीन दिनों का होता है। पहले और दूसरे दिन कोदई माता के छत्र को ग्राम भ्रमण कराया जाता है। देवी के पुजारी भोयर परिवार के वंशजों के द्वारा परंपरानुसार पूजा अनुष्ठान संपन्न किया गया।