छत्तीसगढ़बिलासपुर

महिला न्यायाधीश ने की आत्महत्या कारण अज्ञात!

Advertisement

जिला न्यायाधीश कांता मार्टिन की बेडरूम में पंखे पर झूलती मिली लाश!

15-नवम्बर,2020
मुंगेली-[सवितर्क न्यूज़]
मुंगेली की जिला एवं सत्र न्यायधीश कांता मार्टिन ने आज खुदकुशी कर ली। उनके सरकारी बंगले का दरवाजा तोड़कर पुलिस अंदर पहुंची और साड़ी के फंदे से लटके शव को बाहर निकाला गया,
फिलहाल ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि महिला जज ने आखिर इस तरह से अपनी जान क्यों दे दी?
55 वर्षीय श्रीमती मार्टिन अकेली रहती थी, उनके पति की करीब डेढ़ साल पहले मौत हो गई थी।
घटना की जानकारी मिलते ही एसपी अरविंद कुजुर मौके पर पहुंचे, उन्होंने बताया कि सुबह करीब 9 बजे बंगले का कुक आया। दरवाजा लॉक होने की वजह से वो काफी देर तक बेल बजाता रहा। उसने कांता मार्टिन को फोन कॉल किए, मगर कोई जवाब नहीं मिला। इसके बाद उसने पड़ोस में रहने वाले कोर्ट के अन्य अधिकारियों को सूचना दी। फिर मुझे जानकारी मिली। मैं मौके पर पहुंचा। टॉर्च की मदद से खिड़की से देखा तो मैडम का शव लटका दिख रहा था। फिर दरवाजा तोड़कर पुलिस टीम घर में दाखिल हुई। कमरे से कोई सुसाइड नोट वगैरह नहीं मिला है। SP ने बताया कि अब तक सामने आई जानकारी के मुताबिक कांता मार्टिन यहां अकेले रहती थीं। काफी समय से अकेली रहने की वजह से वो डिप्रेशन में थीं। इस वजह से उन्होंने ऐसा कदम उठाया है।

डेढ़ साल पहले पति की हो चुकी है मौत
जज कांता मार्टिन के पति की डेढ़ साल पहले मौत हो चुकी थी। उनके दो बेटे काम के सिलसिले में बाहर रहते थे। रायपुर में रहने वाले अंकित को पुलिस ने बुलावा भेजा है। दूसरा बेटा दिल्ली में रहता है। जानकारी के मुताबिक, कांता मार्टिन जुलाई 2019 से मुंगेली जिले की जिला एवं सत्र न्यायधीश थीं। इससे पहले उन्होंने बिलासपुर, कांकेर, दुर्ग, रायपुर में भी सेवा दी थी। वह मूलत: कटनी मध्यप्रदेश की रहने वाली थीं।
बताया जा रहा है कि मुंगेली जज बँगले में जज के आत्महत्या करने की यह दूसरी घटना है, पूर्व में भी एक महिला जज ने अग्नि स्नान कर आत्महत्या की थी।

Related Articles

Back to top button