Uncategorized

डॉ.ऋचा जोगी का छानबीन समिति को मिला जवाब..कहा..चाहिए 16 दिन का समय..बताया..अभी नहीं मिला रिकार्ड

Advertisement

बिलासपुर—डॉ. ऋचा जोगी ने मुंगेली जिला छानबीन समिति को लिखकर जवाब देने के लिए समय दिए जाने की मांग की है। अपने जवाब में ऋचा जोगी ने जिला छानबीन समिति से रिकार्ड नहीं मिलने के कारण कुछ दिनों का समय मांगा है। जानकारी देते चलें कि अजीत जोगी की बहू डॉ.ऋचा जोगी को 12 अक्टूबर को मुूंगेली जिला छानबीन समिति के सामने अपनी जाति की सत्यापन को लेकर दस्तावेज के साथ उपस्थिति होना था। पिछली बार 8 अक्टूबर को ऋचा जोगी के भाई ऋषभ साधू ने जरूरी दस्तावेज जमा करने के बाद बाकी दस्तावेज पेश करने के लिए समय की मांग की थी। मुंगेली छानबीन समिति ने 12 अक्टूबर को दस्तावेज के साथ पेश होने को कहा था।

– एक बार फिर अपनी जाति की सत्पान को लेकर मुंगेली जिला छानबीन समिति के सामने मौजूद नहीं हुई। एक पत्र के माध्यम से ऋचा जोगी ने छानबीन समिति से समय की मांग की है। उन्होने पत्र के माध्यम से बताया कि चूंकि उनका बच्चा अभी नवजात मात्र दो महीने का है। इसलिए उपस्थित होकर समय मांगना मुश्किल है। पत्र के माध्यम से बताना चाहती हूं कि बिलासपुर जिला रजिस्ट्रार कार्यालय में एक कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाया गया। जिसके चलते रजिस्ट्रार कार्यालय 7 अक्टूबर से 11 अक्टूबर 2020 तक बंद है। इसके चलते 1940 के मिसल के मूल दस्तावेज उपलब्ध नहीं हो सका है। इसलिए समय दिया जाए।

ऋचा जोगी ने बताया कि नियमों के तहत समिति को उन्हें व्यक्तिगत सुनवाई और वीडियोग्राफी में गवाहों के प्रतिपरीक्षण का अवसर भी देना चाहिए। 2 माह के बच्चे की माँ हूं जिसके चलते बच्चे को लगातार ब्रेस्टफीड और मातृत्व केयर की जरुरत है। कोरोना महामारी को देखते हुए वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन और आईसीएमआर की गाइडलाइन्स के अनुसार समिति के सामने 10 दिनो की मोहलत दिए जाने को कहा है। ऋचा जोगी ने यह भी कहा कि उन्हें चिकित्सकीय निगरानी में कोरोना-मुक्त माहौल में सुनवाई के लिए बुलाया जाए।

डॉ. ऋचा जोगी आगे बताया कि समिति की तरफ से भेजे गए पत्र में 1950 से पहले का राजस्व दस्तावेज (मिसल) और 02 जून 1940 के बिक्रीनामे की मूलप्रति मांगा गया है।सभी मूल दस्तावेज बिलासपुर जिला रजिस्ट्रार के पास जमा हैं। लेकिन बिलासपुर जिला रजिस्ट्रार कार्यालय में एक कर्मचारी के कोरोना पॉजिटिव होने के कारण कार्यालय का काम बन्द है। जिसकी वजह से दस्तावेज उपलब्ध नहीं हो पाए हैं।

Related Articles

Check Also
Close
Back to top button