Sunday, October 2, 2022

बस्तर में ‘नक्सलवाद’ की नींव, उसकी पत्नी ने किया सरेंडर ….

Must Read

बस्तर में ‘नक्सलवाद’ की नींव, उसकी पत्नी ने किया सरेंडर, जानिए कौन था मोस्ट वांटेड नक्सली ….

ब्यूरो रिपोर्ट सिरोज विश्वकर्मा

रायपुर। नक्सली मामले में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है. खूंखार नक्सल कमांडर रमन्ना की पत्नी सावित्री ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है. महिला नक्सली कमांडर सावित्री ने हैदराबाद में पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया. उन्होंने तेलंगाना के डीजीपी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया. बताया जाता है कि बस्तर में हुए सभी बड़े नक्सली हमलों में वह शामिल रही है. वह 1992 से 2021 तक सभी बड़े हमलों में शामिल रही हैं. वह नक्सलियों की कोंटा एरिया कमेटी की प्रभारी भी रही हैं.

बता दें कि महिला नक्सली कमांडर सावित्री के पति खूंखार नक्सली कमांडर रमन्ना ने बस्तर में नक्सलवाद की नींव रखी थी. इससे पूरा ‘नक्सलगढ़’ कांप उठता था. उसके आतंक से सभी परेशान थे. बता दें कि मोस्ट वांटेड नक्सली कमांडर रमन्ना उर्फ ​​रावलू श्रीनिवास की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी. रमन्ना ने सुरक्षा एजेंसियों को परेशान कर रखा था. तेलंगाना के वारंगल निवासी रमन्ना नक्सलियों की केंद्रीय समिति का सचिव था. तेलंगाना, ओडिशा और छत्तीसगढ़ की सरकारों ने उस पर करीब 2.40 करोड़ रुपये का इनाम घोषित किया था. अकेले छत्तीसगढ़ पुलिस ने उस पर 40 लाख रुपये का इनाम रखा था.

रमन्ना को पिछले एक दशक में सुरक्षा बलों पर हुए बड़े हमलों का मास्टरमाइंड माना जाता है. इन हमलों में सुरक्षा बलों के कई जवान शहीद हो गए हैं. अप्रैल 2010 में दंतेवाड़ा जिले के चिंतलनार गांव में सीआरपीएफ के 76 जवान शहीद हुए थे, मार्च 2014 में सुकमा जिले के जीरम नाला में 16 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए थे. अप्रैल 2017 में बुर्कापाल में सीआरपीएफ के 25 जवान शहीद हुए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

More Articles Like This

बस्तर में ‘नक्सलवाद’ की नींव, उसकी पत्नी ने किया सरेंडर, जानिए कौन था मोस्ट वांटेड नक्सली ….

ब्यूरो रिपोर्ट सिरोज विश्वकर्मा

रायपुर। नक्सली मामले में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है. खूंखार नक्सल कमांडर रमन्ना की पत्नी सावित्री ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है. महिला नक्सली कमांडर सावित्री ने हैदराबाद में पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया. उन्होंने तेलंगाना के डीजीपी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया. बताया जाता है कि बस्तर में हुए सभी बड़े नक्सली हमलों में वह शामिल रही है. वह 1992 से 2021 तक सभी बड़े हमलों में शामिल रही हैं. वह नक्सलियों की कोंटा एरिया कमेटी की प्रभारी भी रही हैं.

बता दें कि महिला नक्सली कमांडर सावित्री के पति खूंखार नक्सली कमांडर रमन्ना ने बस्तर में नक्सलवाद की नींव रखी थी. इससे पूरा ‘नक्सलगढ़’ कांप उठता था. उसके आतंक से सभी परेशान थे. बता दें कि मोस्ट वांटेड नक्सली कमांडर रमन्ना उर्फ ​​रावलू श्रीनिवास की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी. रमन्ना ने सुरक्षा एजेंसियों को परेशान कर रखा था. तेलंगाना के वारंगल निवासी रमन्ना नक्सलियों की केंद्रीय समिति का सचिव था. तेलंगाना, ओडिशा और छत्तीसगढ़ की सरकारों ने उस पर करीब 2.40 करोड़ रुपये का इनाम घोषित किया था. अकेले छत्तीसगढ़ पुलिस ने उस पर 40 लाख रुपये का इनाम रखा था.

रमन्ना को पिछले एक दशक में सुरक्षा बलों पर हुए बड़े हमलों का मास्टरमाइंड माना जाता है. इन हमलों में सुरक्षा बलों के कई जवान शहीद हो गए हैं. अप्रैल 2010 में दंतेवाड़ा जिले के चिंतलनार गांव में सीआरपीएफ के 76 जवान शहीद हुए थे, मार्च 2014 में सुकमा जिले के जीरम नाला में 16 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए थे. अप्रैल 2017 में बुर्कापाल में सीआरपीएफ के 25 जवान शहीद हुए थे.