Wednesday, November 30, 2022

इस बजट में दक्षिण पूर्व रेल मंडल की हुई बल्ले बल्ले, आवंटित हुए 5050 करोड़ रुपए

Must Read

बिलासपुर। फरवरी को संसद में प्रस्तुत हुए वर्ष 2021- 22 के आम बजट में रेलवे को 110 लाख करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं, जिसमें एसईसीआर को लगभग 5050 करोड रुपए मिले हैं। इस राशि से एसएसीआर में नई रेल लाइन, तीसरी और चौथी लाइन , ट्रैफिक सिक्योरिटी, यात्री सुविधा सहित अन्य क्षेत्रों में काम कर रेलवे की व्यवस्था को बेहतर बनाने की कोशिश की जाएगी।
वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी को वर्ष 2021 22 का आम बजट प्रस्तुत किया था। इस बजट में वित्त मंत्री ने हर विभाग को कुछ ना कुछ देने की कोशिश की है तो वही भारतीय रेल को भी 110 लाख करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं, जिसके तहत रेल विकास को लेकर कार्य किए जाएंगे ।इसी कड़ी में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की बात करें तो जोनल रेलवे को कुल 5050 करोड रुपए आवंटित किए गए हैं जबकि पिछले साल जोनल को 5000 करोड़ों रुपए आवंटित हुए थे। नए बजट में जोनल रेलवे को स्वीकृत की गई है उसमें नई रेल, लाइन तीसरी और चौथी रेल लाइन डबलिंग कार्य सहित यात्री सुविधाओं पर खास फोकस किया गया है। नई रेल लाइन को अगर हम विस्तार से देखें तो राजनंदगांव से नागपुर के बीच नई रेल लाइन बिछाने की स्वीकृति दी गई है तो वहीं बिलासपुर से नागपुर के बीच 228 किलोमीटर की रेल लाइन के लिए 390 करोड रुपए आवंटित किए गए हैं। इसी तरह झारसुगड़ा से बिलासपुर के 206 किलोमीटर की चौथी लाइन के लिए 432 करोड रुपए दिए गए हैं , जबकि पेंड्रा से अनूपपुर की निर्माणाधीन रेल लाइन जो लगभग 50 किलोमीटर शेष है ₹150 करोड़ तो अनूपपुर से कटनी के बीच 165 किलोमीटर की तीसरी रेल लाइन के लिए 290 करोड रुपए आवंटित किए गए हैं।

इसके अलावा उसलापुर फ्लाईओवर के लिए ₹54 करोड़ भी नए बजट में आवंटित हुआ है ।नई रेल लाइन और गेज कन्वर्शन के लिए लगभग 14 सो करोड़ रुपए दिए गए हैं तो डबलिंग कार्य के लिए 1817 करोड़, जबकि ट्रैफिक सिक्योरिटी के लिए 61 करोड ,रोड सेफ्टी जिसमें आर यू बी ,और आर ओ बी के लिए 570 करोड रुपए जबकि ट्रैक सेफ्टी के लिए 560 करोड रुपए दिए गए हैं इसके अलावा ब्रिज, टनल ,सिग्नल टेलीकॉम, इलेक्ट्रिकल वर्क, वर्कशॉप, स्टाफ वेलफेयर के लिए भी राशि दी गई है। यात्री सुविधा के विस्तार के लिए भारतीय रेल को भारी राशि मिली है दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को यात्री सुविधाओं के लिए 404 करोड रुपए आवंटित किए गए हैं जबकि पिछले वर्ष यह 118 करोड रुपए ही दिए गए थे। इतनी बड़ी राशि दिए जाने के पीछे तर्क दिया जा रहा है कि भारतीय रेल अपने स्टेशनों को आधुनिक बनाना चाहती है, जिससे यात्रियों को बेहतर सुविधा मिल सके। निश्चित तौर पर इस बार के बजट में बड़ी राशि एसईसीआर को उपलब्ध कराई गई है जिससे अब जोनल रेलवे में रेल विकास को गति प्रदान करने में मदद मिलेगी। बुधवार को प्रेस वार्ता के दौरान रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी साकेत रंजन ने बजट के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि जो राशि जोनल रेलवे को दी गई है निश्चित तौर पर रेल विकास को लेकर गति प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।
पिछले वर्ष की तुलना में इस बार दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को पचास करोड़ रुपये की अधिक राशि आवंटित की गई है तो यात्री सुविधा को लेकर भी रेल प्रशासन ने जोनल रेलवे को एक तरह से स्टेशनों को सर्व सुविधा युक्त बनाने वित्तीय मदद उपलब्ध कराई है। जाहिर तौर पर जिस वर्ल्ड क्लास स्टेशन का सपना देखा जा रहा है उसमें यह पहल महत्वपूर्ण होगी। अब रेलवे ने सभी जोनल रेलवे को राशि आवंटित कर दी है लेकिन देखना होगा कि साल भर में अपने इन कार्यों को दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे कितना पूर्ण कर पाता है।

More Articles Like This

बिलासपुर। फरवरी को संसद में प्रस्तुत हुए वर्ष 2021- 22 के आम बजट में रेलवे को 110 लाख करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं, जिसमें एसईसीआर को लगभग 5050 करोड रुपए मिले हैं। इस राशि से एसएसीआर में नई रेल लाइन, तीसरी और चौथी लाइन , ट्रैफिक सिक्योरिटी, यात्री सुविधा सहित अन्य क्षेत्रों में काम कर रेलवे की व्यवस्था को बेहतर बनाने की कोशिश की जाएगी।
वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी को वर्ष 2021 22 का आम बजट प्रस्तुत किया था। इस बजट में वित्त मंत्री ने हर विभाग को कुछ ना कुछ देने की कोशिश की है तो वही भारतीय रेल को भी 110 लाख करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं, जिसके तहत रेल विकास को लेकर कार्य किए जाएंगे ।इसी कड़ी में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की बात करें तो जोनल रेलवे को कुल 5050 करोड रुपए आवंटित किए गए हैं जबकि पिछले साल जोनल को 5000 करोड़ों रुपए आवंटित हुए थे। नए बजट में जोनल रेलवे को स्वीकृत की गई है उसमें नई रेल, लाइन तीसरी और चौथी रेल लाइन डबलिंग कार्य सहित यात्री सुविधाओं पर खास फोकस किया गया है। नई रेल लाइन को अगर हम विस्तार से देखें तो राजनंदगांव से नागपुर के बीच नई रेल लाइन बिछाने की स्वीकृति दी गई है तो वहीं बिलासपुर से नागपुर के बीच 228 किलोमीटर की रेल लाइन के लिए 390 करोड रुपए आवंटित किए गए हैं। इसी तरह झारसुगड़ा से बिलासपुर के 206 किलोमीटर की चौथी लाइन के लिए 432 करोड रुपए दिए गए हैं , जबकि पेंड्रा से अनूपपुर की निर्माणाधीन रेल लाइन जो लगभग 50 किलोमीटर शेष है ₹150 करोड़ तो अनूपपुर से कटनी के बीच 165 किलोमीटर की तीसरी रेल लाइन के लिए 290 करोड रुपए आवंटित किए गए हैं।

इसके अलावा उसलापुर फ्लाईओवर के लिए ₹54 करोड़ भी नए बजट में आवंटित हुआ है ।नई रेल लाइन और गेज कन्वर्शन के लिए लगभग 14 सो करोड़ रुपए दिए गए हैं तो डबलिंग कार्य के लिए 1817 करोड़, जबकि ट्रैफिक सिक्योरिटी के लिए 61 करोड ,रोड सेफ्टी जिसमें आर यू बी ,और आर ओ बी के लिए 570 करोड रुपए जबकि ट्रैक सेफ्टी के लिए 560 करोड रुपए दिए गए हैं इसके अलावा ब्रिज, टनल ,सिग्नल टेलीकॉम, इलेक्ट्रिकल वर्क, वर्कशॉप, स्टाफ वेलफेयर के लिए भी राशि दी गई है। यात्री सुविधा के विस्तार के लिए भारतीय रेल को भारी राशि मिली है दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को यात्री सुविधाओं के लिए 404 करोड रुपए आवंटित किए गए हैं जबकि पिछले वर्ष यह 118 करोड रुपए ही दिए गए थे। इतनी बड़ी राशि दिए जाने के पीछे तर्क दिया जा रहा है कि भारतीय रेल अपने स्टेशनों को आधुनिक बनाना चाहती है, जिससे यात्रियों को बेहतर सुविधा मिल सके। निश्चित तौर पर इस बार के बजट में बड़ी राशि एसईसीआर को उपलब्ध कराई गई है जिससे अब जोनल रेलवे में रेल विकास को गति प्रदान करने में मदद मिलेगी। बुधवार को प्रेस वार्ता के दौरान रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी साकेत रंजन ने बजट के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि जो राशि जोनल रेलवे को दी गई है निश्चित तौर पर रेल विकास को लेकर गति प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।
पिछले वर्ष की तुलना में इस बार दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को पचास करोड़ रुपये की अधिक राशि आवंटित की गई है तो यात्री सुविधा को लेकर भी रेल प्रशासन ने जोनल रेलवे को एक तरह से स्टेशनों को सर्व सुविधा युक्त बनाने वित्तीय मदद उपलब्ध कराई है। जाहिर तौर पर जिस वर्ल्ड क्लास स्टेशन का सपना देखा जा रहा है उसमें यह पहल महत्वपूर्ण होगी। अब रेलवे ने सभी जोनल रेलवे को राशि आवंटित कर दी है लेकिन देखना होगा कि साल भर में अपने इन कार्यों को दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे कितना पूर्ण कर पाता है।